Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
19 Aug 19, 10:00 AM
सलाहकार लेखकृषिसमर्पण
मशरूम की खेती
भारत में मशरूम के उच्च तकनीक द्वारा उत्पादन शुरू हुआ है और इसे वैश्विक बाजार भी उपलब्ध हो गया है। मधुमेह, रक्तचाप, हृदय रोग वाले लोगों के लिए मशरूम एक अच्छा भोजन है। क्योंकि मशरूम पूरी तरह से शाकाहारी है और यह कम कैलोरी, साथ ही प्रोटीन, लोहा, खनिज,और विटामिन से समृद्ध है। मशरूम पर किए गए अनुसंधान के बाद, मशरूम में एंटी - वायरल और एंटी-कैंसर के विशेष गुण पाए गए हैं। भारत में, मशरूम को बटन, शिम्पला, किस्म के तौर पर उगाया जाता है। लगाने की विधि: धान का भूसा, गेहूं का भूसा, ज्वार का चारा, नारियल के सूखे पत्ते, गन्ने के सूखे पत्ते, बाजरे के सूखे पत्ते आदि का उपयोग मशरूम लगाने में किया जाता है। यदि पहले सूखे भूसे का चारा लंबा है, तो उसे 2-3 सेमी तक काट लीजिए। उसके बाद मशरूम की खेती के लिए उपयोग किए जाने वाले भूसे के बोरे को ठंडे पानी में 10-12 घंटे भिगो दीजिए। भीगे हुए भूसे को बाहर निकालकर कीटाणुमुक्त करें। कीटाणुरहित करने के लिए 1 घंटे के लिए गर्म पानी में रखें। बीज की बुवाई : प्लास्टिक की थैली में भूसे की एक परत रखें। परत लगभग दो से ढाई इंच होनी चाहिए। बाद में भूसे के ऊपर बैग के किनारे पर बीज की बुवाई करें। बीज की परत पर फिर से भूसे की एक परत लगाएं। दोबारा, बीज को उसके ऊपर लगाएं, ऐसा करके बैग भरे। बुवाई करते समय, 2% गीला भूसा बोएं। बैग भरते समय, भूसे को अच्छी तरह से दबाएं और पूरा भरे उसके बाद बैग के मुंह को धागे से बांधे और बैग में 25-30 छेद सुई या जंग सुई का उपयोग करके करें। अंकुरण : कवक के विकास के लिए अंकुरण एक महत्वपूर्ण गतिविधि है। बोए गए बीज के बैग को कीटाणुरहित बंद कमरे में रखा जाना चाहिए और जिसका तापमान 22 से 26 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाना चाहिए। बैग निकालने का समय : जब कवक पूरी तरह से विकसित हो जाता है तो बैग सफेद दिखाई देता है। तब बैग को ब्लेड से काटा जाना चाहिए और कवक को रैक पर रखा जाना चाहिए। रैक को कमरे में रखे जहां अप्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश और हल्की हवा आती हो। बैग में से निकाले गए और बिस्तर पर रखे गए कवक पर धीरे-धीरे पानी का छिड़काव करे। दिन में 3-4 बार पानी का छिड़काव करें। छिड़काव के लिए स्प्रे पंप या हैंड पंप का उपयोग करना चाहिए। कटाई : बैग को फाड़ने के बाद 4-5 दिनों के भीतर मशरूम की पूर्ण वृद्धि होती है। बढ़े हुए मशरूम को हाथ से बाएं या दाएं घुमाकर निकालें। मशरूम निकालने के बाद, एक से डेढ़ इंच बेड पर रगड़ें और इसे पानी दें। 10 दिनों के बाद, दूसरी मशरूम फसल और फिर 10 दिनों के बाद तीसरी ऐसी तीन फसलें होती हैं। एक मशरूम बेड (बैग) से 900 से 1500 ग्राम तक गीली मशरूम उपलब्ध होती है। बचे हुए मशरूम बेड का उपयोग पौधों के लिए उर्वरक के रूप में और पशुधन के पोषण के लिए किया जाता है। सन्दर्भ: कृषिसमर्पण
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
293
0