AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
29 Jul 19, 01:00 PM
कृषि वार्ताकृषि जागरण
देखें, देश में कहां हो रही डिजिटल खेती!
महाराष्ट्र के परभणी जिले में वसंतराव नाइक मराठवाड़ा कृषि विश्वविद्यालय ने नई दिल्ली स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान सम्मेलन में रोबोट, ड्रोन और स्वचालित मशीनों द्वारा डिजिटल कृषि का एक नमूना पेश किया। यह कृषि उत्पादकता को बढ़ाने के तौर पर किया गया। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय निदेशक ने राष्ट्रीय कृषि उच्च शिक्षा परियोजना के तहत इसे मंजूरी दे दी है। राकेश चंद्र अग्रवाल ने हाल ही में विश्वविद्यालय को लिखे एक पत्र में बताया कि यह अंतर्राष्ट्रीय मानक परियोजना देश में एकमात्र प्रशिक्षण परियोजना होगी और विश्वविद्यालय में आदर्श उन्नत कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी केंद्र (उन्नत कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी (सीएएएसटी) स्थापित किया जाएगा।
प्रशिक्षण परियोजना को 2019 से 2022 तक तीन वर्षों के लिए संकल्पित किया गया है और इसे अठारह करोड़ के वित्त पोषण के साथ स्वीकृत किया गया है, जिसमें से 50% विश्व बैंक से और 50% कृषि अनुसंधान परिषद भारत के माध्यम से प्राप्त होगा। यह विभिन्न अनुसंधान प्रयोगशालाओं, रोबोट, ड्रोन और स्वचालित डिजिटल उपकरण बनाकर छात्रों और शोध प्रोफेसरों के लिए प्रशिक्षण सुविधाएं प्रदान करेगा। इस केंद्र द्वारा प्रशिक्षित प्रशिक्षु, किसानों तक डिजिटल खेती की तकनीक पहुंचाने की कोशिश करेंगे। स्रोत - कृषि जागरण, 3 जुलाई 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
43
0