Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
22 Nov 19, 06:00 PM
कृषि वार्ताकृषि जागरण
उत्तर प्रदेश सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गाय के गोबर से बायोगैस और सीएनजी निर्माण की तैयारी चल रही है। इस मुद्दे को लेकर प्रशासन और नगर निगम तेजी से काम कर रहे हैं। फिलहाल पीपीपी मॉडल का प्रस्ताव पास कर दिया गया है।
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायुपर के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय ने जैविक खेती को नुकसान पहुंचाने वाले शत्रु कीट को मारने के लिए जैविक कीट मित्रों को पालना शुरू कर दिया है। यह सभी कीट धान, तिलहन, दलहन, सब्जी, भाजी आदि के लिए पौधों को खाने और नष्ट करने वाले कीटों को खाते है या उनको नष्ट कर देते है।
इस बारे में नगर निगम के बताया कि बायोगैस और सीएनजी का निर्माण पीपीपी मॉडल के आधार पर किया जायेगा। इस मॉडल के प्रस्ताव को प्रशासन द्वारा पास कर दिया गया है। नगर निगम ने बताया कि बायोगैस और सीएनजी से 25 से 30 लाख रुपये का औसतन लाभ हो जायेगा। गोबर की पूर्ति के लिये गायों की जरूरत पड़ेगी जिससे पशुपालकों को भारी मुनाफा होगा। इस काम में प्राइवेट पार्टी का काम राजस्व शेयरिंग मॉडल में निवेश करना होगा। जबकि महाराष्ट्र और फिरोजाबाद की 3 कंपनियां इसमें भाग लेंगी। अनुमान के मुताबिक 2020 के अंत तक ये काम शुरू हो चुका होगा। स्रोत – कृषि जागरण, 21 नवंबर 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
5
0