AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
11 Jun 19, 06:00 PM
कृषि वार्तागांव कनेक्शन
अब मलिहाबाद के आम को मिलेगा गैप प्रमाणीकरण
आम के लिए मशहूर यूपी के मलिहाबाद के किसानों को दूसरे कई आम उत्पादक राज्यों के मुकाबले आम का सही दाम नहीं मिल पाता है। क्योंकि गैप (गुड एग्रीकल्चर प्रैक्टिसेज) प्रमाणीकरण न होने से यहां के बागवान पीछे रह जाते हैं। ऐसे में केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान किसानों की मदद करेगा।
आईसीएआर-सीआईएस लखनऊ के 36वें स्थापना दिवस समारोह में यह कहा गया। निर्यातकों ने गैप प्रमाणीकरण को आवश्यक शर्त के रूप में लागू करना प्रारंभ कर दिया है, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में उन्हें सभी सूचनाएं देनी आवश्यक हैं। आईसीएआर-सीआईएस ने मालिहाबाद बागों के प्रमाणन में मदद करने का प्रस्ताव किया है। गैप प्रमाणीकरण ज्यादातर निर्यातकों द्वारा प्रेरित किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में, गैप प्रमाणन और ट्रेसबिलिटी आवश्यकताएं महत्वपूर्ण हैं। कार्बाइड और गैरवाजिब रसायनों के उपयोग से मुक्त होने के कारण प्रमाणित आम की अधिक मांग होगी। गैप प्रमाणन यदि ठीक से किया जाता है, तो यह खरीदारों को आकर्षित करता है। स्रोत – गांव कनेक्शन, 3 जून 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
2
0