जैविक खेतीएग्रोवन
पैसिलोमयीसिस लिलसिनस
पैसिलोमयीसिस लिलसिनस विभिन्न प्रकार की मिट्टी में प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला कवक है। यह कवक 21-32 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर जीवित रहता है। यदि मिट्टी का तापमान 36 डिग्री सेल्सियस से अधिक है तो कवक जीवित नहीं रह सकता। कवक जीवन चक्र के सभी चरणों में नेमाटोड को नियंत्रित करने के लिए उपयोगी है। फसलें - आलू, मिर्च, टमाटर, खीरा, फूल, आदि।
लक्षित कीट - उदाहरण के लिए परजीवी निमेटोड: जड़ गांठ सूत्रकृमि, पुटी सूत्रकृमि, रेनिफार्म सूत्रकृमि। उपयोग की विधि - 200 लीटर पानी में 1 किलो फफूंद आधारित पाउडर (पैसिलोमयीसिस लिलसिनस) मिलाएं और एक एकड़ में घोल का छिड़काव करें। स्रोत: एग्रोवन यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
117
1
संबंधित लेख